Indian News : मुंबई ।  नए-नए पेरेंट्स बने आलिया भट्ट-रणबीर कपूर अपनी लिटिल प्रिंसेस का नाम रिवील कर दिया है. कपल ने 6 नवंबर को नन्ही परी का अपनी जिंदगी में स्वागत किया. तब से ही रणबीर-आलिया अपनी बेटी साथ पेरेंटहुड के इस नए सफर को एंजॉय कर रहे हैं. उनकी खुशी बेटी के आने से सातवें आसमान पर है.


दो हफ्ते से कपल इस सोच-विचार में था कि बेटी का क्या नाम रखना है. आलिया ने कहा था कि हम लिटिल एंजेल के नामकरण में कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहते हैं. आखिरकार तमाम सजेशन को सुनने के बाद दोनों ने अपनी बेटी का नाम फाइनल कर दिया है. आलिया भट्ट ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट कर बताया कि कपल ने बेटी का नाम क्या रखा है. रणबीर-आलिया ने अपनी बेटी का नाम ‘राहा कपूर’ रखा है. वहीं आलिया ने ये भी बताया कि ये नाम उसे उसकी दादी नीतू कपूर ने दिया है.

नाम ऐलान का पोस्ट शेयर कर आलिया ने लिखा- ये नाम राहा (जो कि उसकी समझदार और आश्चर्यजनक दादी ने चूज किया है) के बहुत सारे सुंदर से मतलब हैं. राहा का असल में मतलब दिव्य पथ है. स्वाहिली में इसका मतलब खुश है. संस्कृत में राहा एक वंश बढ़ाने वाला है. बांग्ला में – आराम, कम्फर्ट, राहत, है. वहीं अरबी में इसका मतलब शांति है. इस नाम का मीनिंग खुशी, स्वतंत्रता और आनंद भी है.

आलिया ने आगे लिखा- उसके नाम के जैसे ही जब हमने उसे पहली बार गोद में लिया था, सारी फीलिंग्स को महसूस किया था. शुक्रिया राहा, हमारे परिवार को फिर से जीवन देने के लिए, ऐसा लगता है जैसे हमारी जिंदगी अभी शुरू ही हुई है.

आलिया नाम के साथ एक फोटो भी शेयर की है. ब्लर की गई फोटो में सारा ध्यान पीछे टंगी हुई बार्सेलोना की जर्सी पर दिखाया गया है. यूनिसेफ के मार्क वाली उस ड्रेस पर राहा नाम लिखा हुआ है. ब्लू और रेड लाइनिंग की इस टी-शर्ट और शॉर्ट्स को फ्रेम कर के दीवार पर लगाया गया है. इसी फोटो में ब्लर दिख रहे रणबीर-आलिया अपनी बेटी को थामे खड़े हैं. हालांकि बेटी राहा का सिर्फ सिर दिख रहा है, लेकिन फैंस इसे पहली झलक मान रहे हैं.

आलिया के नाम अनाउंसमेंट के साथ फोटो पोस्ट करते ही फैंस के कमेंट की भरमार लग गई है. फैंस कमेंट कर कपल को जमकर बधाई दे रहे हैं. कई यूजर ने नाम को बेहद शानदार बताया तो वहीं राहा की बुआ यानी रिद्धीमा ने कमेंट कर अपना प्यार शो किया.

@indiannewsmpcg
Indian News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page