Indian News :  व्यक्ति अपने जीवन को खुशहाल बनाने के लिए कई तरह के प्रयास करता है, वो दिन-रात मेहनत कर के अधिक से अधिक धन कामना चाहता है ताकि उसकी और उसकी परिवार के ज़िन्दगी अच्छे से कट सके लेकिन कई बार इतनी म्हणत करने के बावजूद भी उसके जीवन भी धन की कमी लगी ही रहती है. और ऐसा इसलिए भी होता है क्योंकि अगर हमारा घर या कार्य स्थल वास्तु के अनुसार नहीं बना हो तो घर के सदस्यों के बीच क्लेश और आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ता है। साथ ही घर में दरिद्री छा जाती है और जहां दरिद्धी छा जाती है। वहां से मां लक्ष्मी चलीं जातीं हैं।

वहीं वास्तु शास्त्र में कुछ ऐसे उपाय बताए गए हैं, जिनको करने से घर में सुख- समृद्धि और धन के देवता कुबेर की कृपा आप पर हो सकती है। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे मे-

इस दिशा में मुख करके करें भोजन:-

अक्सर आपने देखा होगा कि हर घर में सदस्य किसी भी दिशा में मुख करके भोजन खाने लगते हैं और पकाने भी लगते हैं। जबकि ऐसा गलत है। क्योंकि वास्तु में खाना खाने और पकाने के लिए उत्तर की दिशा बताई है। मतलब खाना हमेशा उत्तर की दिशा में मुख करके भोजन खाना चाहिए और पकाना चाहिए। ऐसा करने से घर में हमेशा सुख- समृद्धि का वास रहता है।

घर में न रखें ये चीजें:-

घर में कभी भी खराब इलेक्ट्रोनिक आयटम्स को नहीं रखना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से शनि और राहु ग्रह नकारात्मक प्रभाव छोड़ते हैं। इसलिए खराब इलेक्ट्रोनिक आयटम को तुरंत ठीक करवा लेना चाहिए। वहीं घर में सूखे फूल भी नहीं रखने चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से घर में नकारात्मकता आती है। इसलिए सूखे फूलों को हमेशा जल में प्रवाहित कर देने चाहिए।

मुख्य द्वार पर रखें तुलसी का पौधा:-

घर के मुख्य द्वार पर तुलसी का पौधा रखना भी शुभ माना जाता है। ऐसा करने से वास्तु दोष से छुटकारा मिलता है। साथ ही आप चाहें तो घर के आस-पास केले का पेड़ भी लगा सकते हैं। ये पेड़ घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करता है।

पहली और आखरी रोटी दें इनको:-

वास्तु शास्त्र के अनुसार पहली रोटी गाय की और आखरी रोटी कुत्तों के लिए जरूर निकालें। ऐसा करने से घर में सकारात्मकता का वास रहता है। साथ ही गाय को रोटी खिलाने से पितृ दोष के मुक्ति मिलती है। साथ ही कुत्ते को रोटी खिलाने से राहु, केतु और शनि ग्रह सकारात्मक होते हैं और आर्थिक तंगी से मुक्ति मिलती है।

Disclaimer : यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि Indian News किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page