Indian News : रायपुर | छत्तीसगढ़ फार्मेसी काउंसिल में फर्जीवाड़ा फूटने के बाद लगभग 3 हजार फार्मासिस्टों की डिग्री जांच के घेरे में हैं। पुलिस फर्जी डिग्री से रजिस्ट्रेशन करवाने के आरोप में 70 फार्मासिस्टों के खिलाफ चारसौबीसी का केस भी दर्ज कर चुकी है। इनमें दो दर्जन को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस बीच 23 हजार फार्मासिस्टों वाले फार्मेसी काउंसिल के 6 सदस्यों के लिए चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई। फिलहाल फर्जी डिग्री वाले केवल 57 फार्मासिस्टों को ही चुनाव की प्रक्रिया से बाहर किया गया।

अफसरों का कहना है बाकी संदिग्ध डिग्रियों की जांच पूरी नहीं हुई है। इस वजह उन्हें वोट देने के अधिकार से वंचित नहीं किया गया है। फार्मेसी काउंसिल में घोटाले को लेकर पुलिस की जांच भी चल रही है। फर्जी डिग्री वाले सत्तर फार्मासिस्टों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के अलावा 27 संदिग्धों की सूची तैयार कर ली गई है।

उन्हें मूल दस्तावेजों के साथ पूछताछ के लिए थाने बुलाया गया है। राजनांदगांव की दो मेडिकल स्टोर्स के संचालकों को भी नोटिस जारी किया जा चुका है। उनसे भी पूछताछ की जाएगी। दोनों मेडिकल स्टोर के संचालकों की भूमिका भी जांच के घेरे में है। इन मेडिकल स्टोर से थोक में इंटर्नशिप का प्रमाण पत्र जारी किया गया है।

राजधानी रायपुर में सबसे ज्यादा 33 सौ फार्मासिस्ट रजिस्टर्ड हैं। उसके बाद बिलासपुर और दुर्ग जिले में फार्मासिस्ट हैं। काउंसिल और पुलिस की अभी तक की जांच में पता चला है कि अभी तक जितनी फर्जी और संदिग्ध डिग्री सामने आई है उसमें दुर्ग, जशपुर, सरगुजा इलाके के रहने वालों की ज्यादा है।

फार्मेसी काउंसिल के चुनाव प्रभारी डा. पामभोई का कहना है काउंसिल के चुनाव में मतदान सीधे जरूर होता है, लेकिन मत पत्र डाक के माध्यम से ही मंगवाए जाते हैं। पिछले तीन दिनों में फार्मासिस्टों के बताए हुए पतों पर डाक के माध्यम से मतपत्र भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सभी फार्मासिस्टों को डाक के माध्यम से ही मतपत्र भेजे जाएंगे। वोट करने के बाद फार्मासिस्ट डाक के मध्यम से ही इसे काउंसिल में जमा करेंगे। अप्रैल के पहले सप्ताह तक चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे।

फार्मेसी काउंसिल के 6 सदस्यों के चुनाव के लिए 4 पैनलों ने अपने उम्मीदवार उतारे हैं। इनमें एकता पैनल, आईपीए पैनल, एबीआईपीए पैनल और सीसीडीए पैनल हैं। इन सभी पैनलों के छह-छह सदस्य मैदान में हैं। 6 पदों के लिए 29 उम्मीदवार है। बाकी पांच उम्मीदवार एक तरह से स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं। एक फार्मासिस्ट किसी भी छह सदस्यों के लिए वोट कर सकता है।

@indiannewsmpcg

Indian News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page