Indian News : महासमुंद। जिले का बहुत प्रतिष्ठि आर्य ज्योति गुरूकुल स्कूल (Arya Jyoti Gurukul School) कोसरंगी इन दिनों अपने प्राचार्य की हरकतों से शर्मसार होता नजर आ रहा है। जहां पालकों में अपने बच्चों के साथ हुए अमानवीय कृत के चलते भारी आक्रोश है, वहीं गुरूकुल स्कूल के प्रबंधन अपने प्राचार्य का बचाव करते नजर आ रहे हैं। स्कूल प्रबंधन मामले में लिपा पोती कर प्राचार्य को बचाने की फिराक में नजर आ रहे हैं। पालकों ने मामले की शिकायत खल्लारी थाने (Khallari Police Station) में की है। घटना के बाद गुरूकुल का प्राचार्य कमल आचार्य (Principal Kamal Acharya) फरार बताया जा रहा है।

हम आपको बता दें कि महासमुन्द जिले के खल्लारी थाना क्षेत्र के आर्श ज्योति गुरूकुल स्कूल में सनातन धर्म के स्कूलों की तरह यहां बच्चों को संस्कृत में शिक्षा देते हैं। इस विद्यालय में महासमुन्द जिले सहित छत्तीसगढ़ प्रदेश के कई जिलों से बच्चों गुरूकुल में शिक्षा लेने आते है। पिछले कुछ दिनों से बच्चे स्कूल के प्राधन पाठक कोमल आचार्य (Head Reader Komal Acharya) की शिकायत अपने पालकों से कर रहे थे कि गुरूकुल के प्रधानपाठक कोमल आचार्य बच्चों को अपने कमरे में बुलाकर उनको अपने बदन की मालिश करवाते है और बच्चों के साथ यौन शोषण करते हैं। बच्चों के मना करने पर प्राचार्य द्वारा उन्हें डराया धमकाया जा रहा है।

प्राचार्य के शोषण का शिकार हुए बच्चों से मिलने कल 24 जुलाई को कुछ परिजन वहां पहुंचे थे। बच्चों ने अपने परिजनों को अपने साथ हुए आप बीती बताई जिसके बात से कल देर रात तक गुरूकुल में माहौल गहमा गहमी का रहा। परिजनों से मामले की सूचना तत्काल खल्लारी पुलिस को दी और चाईल्ड केयर सेंटर को भी दी। मामले की तफतीश करने पहुंची चाईल्ड केयर (child care) ने गुरूकुल के 7 विद्यार्थी जिनके साथ अमानवीय कृत्य हुआ है उन 7 बच्चों का बयान लिया है।

रात्रि में ही पालकों ने खल्लारी पुलिस को लिखित शिकायत भी की है। रात्रि में ही जिन बच्चों के पालक आये थे उन बच्चों को पालको के सुपुर्द किया गया है वहीं जिन बच्चों के पालक नहीं पहुंचे थे उन बच्चों को रात्रि में ही चाईल्ड केयर सेन्टर (child care center) भेज दिया गया है। आज सुबह खल्लारी पुलिस ने गुरुकुल के प्राचार्य कोमल वैष्णव (Gurukul Principal Komal Vaishnav) के खिलाफ पास्को एक्ट की धारा मामला दर्ज़ कर आरोपी प्राचार्य को पुलिस को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page