Indian News : बिलासपुर ।  हिंदुस्तान की लाइफलाइन कहलाने वाली भारतीय रेल को रेलवे के अफसरों ने खिलवाड़ बना दिया। अभी कटनी सेक्शन की 38 ट्रेनें रद्द चल ही रही है और फिर ईब स्टेशन को चौथी लाइन से जोड़ने का हवाला देकर 66 और ट्रेनों को रद्द कर दिया।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन को यात्रियों की परेशानी और लगातार हो रहे विरोध प्रदर्शन के बाद भी कोई फर्क नही पड़ रहा। 21 सितम्बर को फिर नागरिक सुरक्षा मंच ने जीएम ऑफिस का घेराव कर पिछले 6 माह से रद्द किए जा रहे ट्रेनों का परिचालन तत्काल शुरू कराने की मांग की। इधर

दोनों प्रमुख दिशाओं के ट्रेनों को रद करने से अब परिचालन के लिए ट्रेनें ही नहीं बची हैं। ऐन त्योहारी सीजन में लोग अपने घर जाने महीनों से रिजर्वेशन कराकर बैठे है ऐसे में एक के बाद एक ट्रेनों को काम बता रेलवे द्वारा रद्द करने से यात्री बेहद नाराज है।

वे यहां जोनल मुख्यालय के अफसरों की परिपक्वता को लेकर सवाल खड़े कर रहे है। उनका कहना है कि तभी तो यात्रियों की परेशानी के बावजूद एक रेलखंड के साथ-साथ दूसरे रेलखंड में ट्रेनों के पहिए रोके जा रहे हैं।

एक भी अफसर ऐसे नहीं, जिन्हें यात्रियों की दिक्कतों से कोई लेना देना हो। सभी को रेलवे बोर्ड में खुद बेहतर साबित करना है। इसलिए योजनाबद्ध काम करने के बजाय मनमर्जी चलाते हुए कार्यों को पूरा किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page