Indian News : इंदौर में हाईवे निर्माण के लिए अतिक्रमण हटाने को लेकर जमकर हंगामा हो गया। इस दौरान एक युवक ने खुद को पेट्रोल डालकर आग लगा ली। उसे बचाने की कोशिश में दो लोग और झुलस गए। घायलों को एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। नाराज भीड़ ने पुलिसकर्मियों से मारपीट की और उनकी गाड़ी के कांच तोड़ दिए। मामला रविवार देर रात सिमरोल का है। पुलिस ने 5 लोगों पर केस दर्ज किया है।

सिमरोल में भंवरसिंह की सड़क किनारे चाय-नाश्ते की दुकान है। हाईवे निर्माण के लिए दुकान हटाने को लेकर रविवार दोपहर से विवाद चल रहा था। देर रात यहां डंपर गिट्‌टी खाली करने पहुंचा था। इसे लेकर ग्रामीणों ने आपत्ति जताई थी। विवाद बढ़ने पर मौके पर पुलिस पहुंची। पुलिस जब कुछ लोगों को पकड़कर थाने ले जाने लगी। इस पर वहां मौजूद लोग पुलिस से विवाद करने लगे। महिलाओं ने पुलिस से झूमाझटकी की। इसी दौरान वहां मौजूद भंवरसिंह ने अपने ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। उसे बचाने में उसका भतीजा पुष्पेंद्र और दामाद संदीप भी झुलस गए।

परिवार ने कहा-पेट्रोल डालकर लगाई आग


तीन लोगों के झुलसने से गुस्साई भीड़ ने पुलिसकर्मियों से मारपीट की। सरकारी वाहन के कांच फोड़ भी दिए। यहां परिवार के लोगों ने आरोप लगाते हुए बताया कि पुलिसकर्मियों ने गुंडों के साथ मिलकर उनसे मारपीट की। रजत नाम के व्यक्ति ने भीड़ में उन पर पेट्रोल डाला और आग लगा दी।

ग्रामीणों ने जेसीबी चालक से की मारपीट


एसआई बिहारी सांवले की शिकायत पर भंवरसिंह चौहान, शेखर, अंतरसिंह, अमृता और पुष्पेन्द्र के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। एसआई ने अपनी शिकायत में बताया कि डंपर चालक पांच महुआ रोड पर गिट्टी खाली करने गया था। यहां चालक के साथ आरोपियों ने मारपीट की। वहीं परिवार के आरोपों को टीआई आरएन भदौरिया ने झूठा बताया है।

दूसरे की जमीन पर बनाई थी दुकान


सिमरोल के पास से हाईवे के लिए सड़क का निर्माण होना है। यहीं पर लेखराज कुमावत के कब्जे वाली जमीन है। जिसमें आगे की तरफ भंवरसिंह चौहान की चाय और नाश्ते की दुकान बनी थी। इस दुकान को रविवार दोपहर से हटाने का काम चल रहा था। जब जेसीबी दुकान को हटा रही थी, तभी चालक से ग्रामीणों का विवाद हुआ था। बाद में पुलिस की मौजूदगी में निर्माण हटाया गया। अधिकारियों के मुताबिक यहां और भी लोगों के अतिक्रमण प्रशासनिक आदेश पर हटाए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page