Indian News : 18 साल से कम की उम्र, घर से स्कूल जाना और फिर चोरी छिपे मोबाइल चलाना। परिवार को भनक तक नहीं लगी। बेटी गायब हो गई, तो परिवार ने पहले तलाशना शुरू किया। जब बेटी को तलाशने में कामयाबी नहीं मिली, तो थाने में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया।

पुलिस ने जब लड़कियों को बरामद किया, तो मामला सोशल मीडिया पर फ्रेंडशिप का निकला। मेरठ पुलिस ने 4 दिन में नाबालिग लड़कियों का अपहरण और रेप के मामले में 4 आरोपियों को अरेस्ट किया है। जिनमें 16 साल की लड़की को बहला फुसलाकर ले जाने वाला आरोपी भी नाबालिग है।

1. फेसबुक से शुरू हुई दोस्ती, प्यार में बदली में रहता है।

परिजनों को संदेह हुआ, तो उन्होंने छात्रा के स्कूल जाने पर रोक लगा दी। एक सप्ताह पहले लड़की घर से लापता हो गई। जिसके बाद 24 घंटे तक परिजनों ने तलाशा। पता चला की आरोपी इमरान भी घर से फरार है। लड़की के परिजनों ने इस मामले में पुलिस से शिकायत की। पहले बताया गया कि लड़की का अपहरण हुआ है। और सरधना के रहने वाले युवक पर संदेह है। लड़की के परिजनों ने बताया कि इमरान ने अपनी भाभी के साथ मिलकर हमारी बेटी को अगुवा किया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया।

इस मामले में लड़की के परिजन सीओ कोतवाली से भी मिले। पुलिस ने लड़की का बरामद कर लिया, लेकिन वह अपने प्रेमी के साथ ही जाने की जिद पर अड़ी रही। बाद में परिवार ने केस दर्ज कराया। सीओ कोतवाली अरविंद चौरसिया ने बताया, “तहरीर के आधार पर केस दर्ज किया गया था। लड़की नाबालिग है। लड़की को बरामद कर लिया। इसके बाद जांच में मामला दूसरा निकला।”

2. पहले दोस्ती फिर 15 साल की लड़की का अपहरण

यह मामला कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र का है। एक कॉलोनी निवासी 15 साल की लड़की को पड़ोस में रहने वाला एक युवक बहला फुसलाकर ले गया। लड़की के परिजनों ने आरोपी युवक के खिलाफ रेप, अपहरण और पॉस्को एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज कराई गई। 18 सितंबर को कंकरखेड़ा पुलिस ने आरोपी रोहित को अरेस्ट कर लिया।

आरोपी से पूछताछ में पुलिस को पता चला कि आरोपी रोहित ने लड़की से पहले दोस्ती की। उसके बाद उसे बहला फुसलाकर ले गया। इससे पहले भी आरोपी लड़की से बात करता था, लेकिन लड़की नाबालिग है, ऐसे में पुलिस ने गंभीर धाराओं में केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया। कंकरखेड़ा इंस्पेक्टर उत्तम सिंह राठौर का कहना है कि बयान, मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने कार्रवाई की है।

3. किशोरी के अपहरण का आरोप


मेरठ सदर तहसील के एक गांव निवासी 16 साल की लड़की एक कॉलेज में पढ़ाई कर रही है। जहां छात्रा की दोस्ती एक साल पहले फेसबुक पर एक छात्र से हुई। छात्र भी नाबालिग है। दोनों पिछले 8 माह से फेसबुक पर बात करते थे।छात्रा के परिजनों को पता नहीं चला की बेटी मोबाइल पर फेसबुक भी चलाती है। एक सप्ताह पहले दोनों घर से फरार हो गये। परिजनों ने ब्रह्मपुरी सर्किल के एक थाने में छात्रा के अपहरण की एफआईआर दर्ज करा दी।

छात्रा को ले जाने वाले नाबालिग छात्र की लोकेशन उत्तराखंड में एक धार्मिक स्थल की मिली। जहां से सर्विलांस टीम और पुलिस ने दोनों को बरामद कर लिया। छात्रा के परिजनों ने मामला अपहरण का बताया, छात्रा ने पुलिस को बताया कि वह अपनी मर्जी से गई।

अपने प्रेमी से बात करती थी, लेकिन लड़की के परिजन पूरे परिवार पर कार्रवाई की मांग पर अड़े हैं। इंस्पेक्टर ने बताया, “दोनों को बरामद कर लिया है। कोर्ट में पीड़िता के बयान की प्रक्रिया चल रही है। कोर्ट के आदेश पर कार्रवाई की जाएगी। दोनों ही नाबालिग हैं।

4. 15 साल की लड़की को झांसे में लिया

पल्लवपुरम इलाके के एक कॉलोनी निवासी 15 साल की लड़की से युवक ने पहले दोस्ती की। इसके बाद आरोपी युवक नाबालिग लड़की को दोस्ती में बहला फुसलाकर ले गया। लड़के के पिता की तरफ से पल्लवपुरम थाने में आरोपी अभिषेक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। पुलिस ने लड़की को बरामद करने के साथ युवक को अरेस्ट कर लिया। लड़की के परिजनों ने पहले मामला अपहरण का बताया।

जब पुलिस ने जांच की, तो पता चला कि आरोपी युवक, नाबालिग लड़की से बात करता था। वह बहला फुसलाकर लड़की को ले गया। लड़की के परिजनों ने पुलिस के सामने कहा कि बदनामी से डर से घर से निकलते भी नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page