Indian News : मध्य प्रदेश में बीटेक के छात्र निशांक राठौर की मौत की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है वैसे-वैसे कई अहम बातों का खुलासा हो रहा है। इस मामले की जांच के लिए बनी SIT की टीम हर एंगल से अपनी पड़ताल कर रही है। एसआईटी प्रमुख अमृत मीणा ने कहा है कि अब तक कि जांच में हत्या के साक्ष्य नहीं मिले हैं। एसआईटी की तरफ से यह भी बताया गया है कि घटना के अंतिम तक किसी तीसरे आदमी की उपस्थिति अब तक नहीं दिखी है। 

एसआईटी चीफ ने निशांक के मोबाइल से किये गये सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर भी अहम खुलासे किये हैं। बता दें कि राज्य के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस मामले की जांच एसआईटी से करवाने के आदेश दिये थे। अमृत मीणा ने कहा कि अभी मामले में हर एंगल से जांच की जा रही है। कई अहम सबूत जुटाए जा रहे हैं। मृतक छात्र के परिजनों से भी बातचीत की गई है। कुल मिलाकर अभी तक जो जांच आई है उसमें हत्या के साक्ष्य नहीं मिले हैं। हालांकि, अभी जांच किसी निष्कर्ष तक नहीं पहुंची है। एसआईटी प्रमुख ने कहा कि हम जांच के नतीजों तक नहीं पहुंचे हैं लेकिन अभी तक हत्या के कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं। 

एसआईटी हेड ने आगे बताया कि घटना के दिन निशांक के साथ किसी के होने की भी बात अब तक की जांच में सामने नहीं आई है। 

मोबाइल से किसने किया विवादित पोस्ट?

लड़के के मोबाइल से किये गए विवादित पोस्ट को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में एसआईटी प्रमुख ने कहा, ‘यह तो सही है उसी मोबाइल (निशांक का)का इस्तेमाल किया गया है। लेकिन यह पोस्ट उसके द्वारा स्वयं बनाई गई है या किसी अन्य व्यक्ति द्वारा बनाई गई है, इसकी अभी जांच चल रही है। लेकिन उसके पहले कभी भी उस मोबाइल पर या उस मोबाइल के माध्यम से उसके स्वयं के द्वारा या अन्य किसी व्यक्ति के द्वारा किसी व्यक्ति के खिलाफ या किसी धर्म या जाति के बारे में किसी तरह की पोस्ट नहीं की गई है।

छात्र पर कितना लोन था?

मृतक छात्र पर लोन था या नहीं? इस सवाल के जवाब देते हुए एसआईटी प्रमुख ने कहा कि इस संबंध में अभी जांच जारी है। हालांकि, परिजनों और मित्रों के जो बयान दर्ज हुए हैं उसमें इस तरह की बातें सामने आई हैं। लेकिन कितनी राशि और किस ऐप के माध्यम से उसने लोन लिया था या उसने कितने दोस्तों से कितने पैसे उधार लिए थे? इस बारे में अभी सबूत जुटाए जा रहे हैं। 

सर तन से जुदा का मैसेज आया

रायसेन में एक इंजनीयरिंग स्टूडेंट की मौत पर बना सस्पेंस खत्म नहीं हो रहा है। बीते रविवार को उसकी लाश रेलवे ट्रैक पर दो हिस्सों में कटी मिली थी। मृतक के पिता को घटना से ठीक पहले मोबाइल पर जो मैसेज मिला था उससे मौत पर सस्पेंस बढ़ गया था। 

स्टूडेंट के पिता उमाशंकर राठौर को बेटे के मोबाइल से ही मैसेज आया, ”राठौर साहाब आपका बेटा बहुत बहादुर था… गुस्ताख-ए-नबी की एक ही सजा, सर तन से जुदा।” उसके वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम पर भी उसके फोटो के साथ इस मैसेज को डीपी में लगाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page