Indian News Facebook post

Indian News : मकर संक्रान्ति (Makar Sankranti) यह भारत का प्रमुख पर्व माना जाता है। मकर संक्रांति (Sankranti) पूरे भारत और नेपाल में विभिन रूपो में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि प्रवेश करते है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। वर्तमान में यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही आता है, इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है। तमिलनाडु में इसे पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं। मकर संक्रान्ति पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायण भी कहते हैं। 14 जनवरी के बाद से सूर्य उत्तर दिशा की ओर अग्रसर होता है। इसी लिऐ ,उतरायण, (सूर्य उत्तर की ओर) भी कहते है। ऐसा इस लिए होता है, की पृथ्वी का झुकाव हर 6, 6 माह तक निरंतर उतर ओर 6 माह दक्षिण कीओर बदलता रहता है। ओर यह प्राकृतिक प्रक्रिया है। जिसे कई लोग अंध विश्वास से भी जोड़ते है।।, उत्तरायण भी इसी दिन होता है।

मकर संक्रांति, या केवल संक्रांति, भगवान सूर्य को समर्पित है
indian news makar sankranti
मकर संक्रांति तिथि और समय
द्रिक पंचांग के अनुसार इस वर्ष मकर संक्रांति शुक्रवार, 14 जनवरी, 2022 को पड़ रही है। इसके अतिरिक्त, मकर संक्रांति पुण्य काल का समय दोपहर 02:43 बजे से शाम 05:45 बजे तक है। अवधि 3 घंटे, 2 मिनट है। मकर संक्रांति महा पुण्य काल का समय दोपहर 02:43 बजे से शाम 04:28 बजे तक है। अंत में, द्रिक पंचांग के अनुसार, मकर संक्रांति का क्षण दोपहर 02:43 बजे है।
अपने घर मे लगाए
मकर संक्रांति का महत्व
मकर संक्रांति हिंदुओं द्वारा सुख और समृद्धि का दिन माना जाता है। मान्यता है कि इस दिन गंगा स्नान करना शुभ होता है। भक्त सूर्य भगवान को भी आदरांजलि देते हैं और हमें उनकी गर्म और चमकती किरणों से आशीर्वाद देने के लिए उनके प्रति आभार व्यक्त करते हैं। 
Makar sankranti indian news sun bath
मकर संक्रांति का इतिहास
ऐसा माना जाता है कि संक्रांति, जिसके नाम पर त्योहार का नाम पड़ा, एक देवता थे जिन्होंने शंकरसुर नामक राक्षस का वध किया था। मकर संक्रांति के अगले दिन, जिसे कारिदीन या किंक्रांत कहा जाता है, देवी ने खलनायक किंकारासुर का वध किया।

यह वह समय भी है जब सूर्य उत्तर की ओर बढ़ना शुरू करता है। मकर संक्रांति से पहले सूर्य दक्षिणी गोलार्ध में चमकता है। हिंदू इस अवधि को शुभ मानते हैं, और इसे उत्तरायण या शीतकालीन संक्रांति के रूप में जाना जाता है। महाभारत के अनुसार, भीष्म पितामह ने मृत्यु को गले लगाने के लिए सूर्य के उत्तरायण में होने की प्रतीक्षा की थी।
makar sankranti Indian News different states
मकर संक्रांति पर्व | Makar Sankranti Celebration | How it is celebrated in different regions in INDIA
अधिकांश क्षेत्रों में, संक्रांति उत्सव दो से चार दिनों तक चलता है। लोग त्योहार के दौरान सूर्य भगवान की पूजा करते हैं। वे पवित्र जल निकायों में एक पवित्र डुबकी के लिए भी जाते हैं, जरूरतमंदों को भिक्षा देकर दान करते हैं, पतंग उड़ाते हैं, तिल और गुड़ से बनी मिठाई तैयार करते हैं, पशुओं की पूजा करते हैं और बहुत कुछ करते हैं।

इसके अतिरिक्त, इस त्योहार के दौरान खिचड़ी बनाई और खाई जाती है, खासकर पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में। यही कारण है कि मकर संक्रांति को खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है। गोरखपुर में, भक्तों के लिए गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने की प्रथा है। हरियाणा, पंजाब और दिल्ली में मकर संक्रांति से एक दिन पहले लोहड़ी मनाई जाती है।

उत्तर प्रदेश : मकर संक्रांति को खिचड़ी पर्व कहा जाता है. सूर्य की पूजा की जाती है. चावल और दाल की खिचड़ी खाई और दान की जाती है.

गुजरात और राजस्थान : उत्तरायण पर्व के रूप में मनाया जाता है. पतंग उत्सव का आयोजन किया जाता है.

आंध्रप्रदेश : संक्रांति के नाम से तीन दिन का कार्यक्रम है।

तमिलनाडु : किसानों का ये प्रमुख पर्व पोंगल के नाम से मनाया जाता है. घी में दाल-चावल की खिचड़ी पकाई और खिलाई जाती है. 

महाराष्ट्र : लोग गजक और तिल के लड्डू खाते हैं और एक दूसरे को भेंट देकर शुभकामनाएं देते हैं. 

पश्चिम बंगाल : हुगली नदी पर गंगा सागर मेले का आयोजन किया जाता है. 

असम : भोगली बिहू के नाम से इस पर्व को मनाया जाता है.

पंजाब : एक दिन पूर्व लोहड़ी पर्व के रूप में मनाया जाता है. धूमधाम के साथ समारोहों का आयोजन किया जाता है. 
lohri in punjab indian news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page